Sunday, November 02, 2014

हरि अनंत हरि कथा अनन्ता : भाग : 9




नाट्य संध्यायें
-----------------


हमारे नेतरहाट प्रवेश के एक साल बाद हमारे आश्रमाध्यक्ष स्वर्गीय श्री देव जी ने घोषणा की कि हर शनिवार को आश्रम में सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया जायेगा। सभी से पूछा गया था कि कभी नाटकों में भाग लिया है। मैंने गढ़हरा के अपने विद्यालय में तीन नाटकों में भाग लिया था और एक कहानी का नाट्य रूपांतरण किया था "थानेदारी से इस्तीफा"। यह सुनकर नाट्य संध्याओं की ज़िम्मेदारी मेरे ऊपर डाली गयी। हमलोग अपनी स्वरचित कवितायें बनाते और सुनाते, छोटी एकाँकी प्रस्तुत करते। विनोद जी (३४२) बालों में कंघी इस प्रकार करते कि सामने एक घोंसला सा बन जाता। एक बार किसी बात पर उन्होंने हमलोगों को बहुत डांटा और उस शनिवार की कविता में उस घोंसले का ज़िक्र आया एक स्वरचित कविता में। विनोद जी देव जी के सामने तो कुछ नहीं बोले पर बाद में एक लताड़ लगायी। एक बार मैंने, शरदेन्दु और शरत ने मिलकर एक स्वरचित एकाँकी प्रस्तुत की थी 'एक पेश' शुरू में बत्तियाँ बुझा दी गयीं और बिपिन और राजबल्लभ को चौकी के नीचे से टोर्च जलIने को कहा गया था। केवल शीर्षक पर और प्रस्तुति पर तालियाँ बजीं और देव जी की ओर से शाब्बाशी मिली। कथ्य याद नहीं, या कथ्य कुछ था ही नहीं। राजबल्लभ को धर्मयुग में छपे चुटकुले पढ़ने को कहा गया था। एक चुटकुला मुझे आज भी याद है। 

एक ग्राहक पान की दुकान पर पहुँचा। पाँच पैसे देते हुए बोला, “एक मीठा पान देना।” फिर बोला, “उसमें इलायची डाल देना।” दुकानदार किसी दूसरे का पान लगा रहा था। कान खुजाते वह फिर बोला, “एक लोंग और गुलकंद भी।” थोड़ी देर बाद बोला, “इसमें सौंफ भी डाल देना।” दुकानदार ने कहा, “आप कहें तो आपके पाँच पैसे भी डाल दूँ।” 
  
यह सिलसिला तब बंद हुआ जब अरुण आश्रम की और से “बर्फ की मीनार” नाटक खेलने का फैसला हुआ। कमलेश जी नायक, शरदेन्दु नायिका, मुझे आया की भूमिका मिली। मेरे साथी काफी दिनों तक मुझे चिढ़ाते रहे। रसायन के एक नए शिक्षक आये थे, ए. बी. सिन्हा जी। अभी कुँवारे ही थे। जब उनकी शादी हुयी, तो हमारी कक्षा में यह चुटकुला प्रसिद्ध था : माता जी ने श्रीमानजी को बक यंत्रों (रेटॉर्ट) की माला पहनाई। वे भी मेरी इस भूमिका का जिक्र कर हँसते थे। अगले साल फिर अरुण आश्रम की ओर से नाटक खेला गया। जिसमें पृष्ठभूमि में एक झरना था। ज्योति और मसूद रब प्रहरी बने थे –  मुँह में पानी रखे थे। जब तस्वीर के झरने पर अंजुरी लगा उन्होंने कुल्ला किया तो काफी तालियाँ बजी। मुझे और गिरिराज को परिचारिका की भूमिका दी गयी थी। जिससे मैं इतना गुस्से में था कि मैंने आँचल इस प्रकार खींच रखा था कि चेहरा न दिखे और अपनी भूमिका के बाद पार्श्व में टार्ज़न की नई पुस्तक पढ़ने में अपना समय बिताता था। देव जी यह बात ताड़ गए थे।
 
अगली बार विद्यालय दिवस पर 'खाली साहब' नाटक खेला गया। सभी आश्रमों से पात्र लिए गए थे। प्रिय मोहन सहाय नायक, ऋतुराज नायिका, विनय सह भूमिका में और मैं प्रॉम्पटर। बड़ा ही लोकप्रिय नाटक था। हम जब इण्टर में पहुँचे तब यह दुबारा खेला गया था। चूँकि नायक और नायिका दोनों इण्टर में विद्यालय में नहीं थे, अतः मसूद रब को नायक बनाया गया था। हमारे चतुर्थ वर्ष में पहुँचते ही एक नाटक का रिहर्सल शुरू हुआ, जिसमें मैं नायक, गिरिराज नायिका और बिपिन और एक कोई और हमारे बच्चे बने थे। इसी साल देव जी के आश्रमाध्यक्ष का काल ख़त्म हो रहा था और धर्म के प्रति उनका रुझान बढ़ रहा था अतः यह नाटक खेला नहीं जा सका। देव जी एक मंझे हुए निर्देशक थे। हर भाव को वे खुद करके दिखाते थे। मुझे गर्व है कि ऐसे निर्देशक से कुछ सीखने को मिला, जिसका प्रयोग मैंने मेडिकल कॉलेज में पाँच साल तक वार्षिक सांस्कृतिक कार्यक्रमों में निर्देशक बनकर किया।
 
इसके अलावा हमारे सीनियर बैच की ओर से "पन्ने फड़क उठे" नाटक खेला गया था, जो स्वरचित था। इसके अंत में जब लेखक निर्देशक काला ओवरकोट, काली पैंट, काला हैट और काला चश्मा लगा मंच पर आये तो जोरदार तालियाँ बजी वैसे बजनी तो सीटियाँ थीं। उसी बैच ने एक ऑर्केस्ट्रा प्रस्तुत किया, जिसमें ऑर्केस्ट्रा सञ्चालन (झूठा ही सही) मजेदार था।

*** डॉ. कुंदन कुमार

Thursday, October 30, 2014

एक कविता




राग दरबारी 

नेतरहाट निकुंज निलय हो
पुलकित कानन कुल किसलय हो,
दृषद तल्प पर शबनम सोती,
ऊषा सूनरी की नव दीप्ति,
लिए सदा अरुणाभ क्षितिज पर,
विहगवृन्द का गान सुनाती,
कर्ण कुहर उन्मीलित हो,
नेतरहाट निकुंज निलय हो

प्रतिवर्ष मुदित मंगलमय हो,  
आह्लाद -जन्य प्रतिपल मन हो,  
कांक्षित केसर कानन उर में,
आत्म -दीप ज्योति जाग्रत हो,
नूतन दृष्टि से पुलकित हो,
नेतरहाट निकुंज निलय हो 

आद्याश्री आभा से भासित,  
सारस्वत द्वीप प्रदीपित हो,  
नूतन द्वैपायन संभूत हो,
संतत मंगल अभिनन्दन हो,
अनुप्राणित उर वसु वैभव हो,
नेतरहाट निकुंज निलय हो

विंध्याचल पाण्डेय जी (सम्प्रति नेतरहाट के शिक्षक)

Monday, September 29, 2014

मैग्नोलिया प्वाइंट से आगे


पछुआ की ताल पर शालवनों के बीच
नर्तन करता उतरता है छत्रधारी बीज सखुए का
दूर पहाड़ों की चोटी पर
नाचता है ढलता लाल-लाल सूरज
गोल-गोल घूमता है
मैग्नोलिया प्वाइंट से आगे
बीच की घाटी में अंधियारा पसरने से पहले
एक दर्दभरी आवाज गूंजती है मैग्नोलिया की
ठिठक जाते हैं शालवन
रुक जाती है कोयल की कल-कल छल-छल धारा
पंछियों की चहचहाहट बन्द है
सैलानी सशंकित
'कहाँ हो तुम गौरांग सुन्दरी!'
तभी दूसरी आवाज़ ढूंढ़ती है
शालवनों से शैले तक गूँजती है
वादियों में वंशी की टेर
महुए के नीचे बैठा है युवा वनवासी
कंथे पर तीर-धनुष
होठों पर वंशी
युगों से पुकारता अपनी सात समन्दर पार की प्रेयसी को
अंधियारा पसरता है घनेरे जंगल में
रजनी का अनन्त साम्राज्य
नक्षत्रों के आलोक में
जुगनुओं के उजास में
होता है दो विरही आत्माओं का मिलन
वनदेवी वन-पुष्पार्घ्य बरसाती
है झरते हैं हरसिंगार और पलाश
मह-मह महकता है महुए का पेड़
दूर कहीं घाटियों में गूँजती है
मांदल की थाप और
करमा का आदिम समवेत स्वर
शालवन झूमता है
कोयल की कल-कल छल-छल धारा का
नर्तन होता है लोअर घाघरी मे
एक नया संसार रचता है स्रष्टा
सूरज ढलने के बाद
मैग्नोलिया प्वाइंट से आगे -------

***Rajeev Kumar Singh***

(विद्यालय में पंचम वर्ष (मार्च १९७०) में रचित एक कविता)